ऊषा ब्रिटेन में देगी भाषण

Posted by & filed under Articles, In the Press, India.

राजस्थान में सिर पर मैला ढोने का काम कर चुकी और धर्मार्थ संगठन सुलभ इंटरनेशनल की मदद से अपने जीवन में बदलाव लाने वाली एक महिला को इस सप्ताह ब्रिटेन के एक सम्मेलन को संबोधित करने के लिए आमंत्रित किया गया है। ऊषा चमार बुधवार को स्वच्छता और भारत में महिला अधिकार विषय पर पोटर्समाउथ… Read more »

राजस्थान की मैला ढोने वाली महिला ब्रिटेन आमंत्रित

Posted by & filed under Articles, In the Press, International, Photos.

लंदन। सुलभ इंटरनेशनल की मदद से अपनी जिंदगी बदलने वाली राजस्थान की उषा को ब्रिटिश सम्मेलन में बोलने के लिए आमंत्रित किया गया है। वह पूर्व में मैला ढोने का काम करती थी।  उषा ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ साउथ एशियन स्टडीज (बीएएसएएस) के सालाना सम्मेलन को संबोधित करने के लिए ब्रिटेन जाएंगी। वह यहां की यूनिवर्सिटी… Read more »

कभी सिर पर ढोती थी मैला, अब ब्रिटेन में आवाज बुलंद करेंगी ऊषा

Posted by & filed under Articles, Delhi, In the Press, Photos.

नई दिल्ली: राजस्थान में सिर पर मैला ढोने का काम कर चुकी और धर्मार्थ संगठन ‘सुलभ इंटरनेशनल’ की मदद से अपने जीवन में बदलाव लाने वाली एक महिला को इस सप्ताह ब्रिटेन के एक सम्मेलन को संबोधित करने के लिए आमंत्रित किया गया है. ऊषा चमार बुधवार को ‘स्वच्छता और भारत में महिला अधिकार’ विषय पर… Read more »

Former manual scavenger from Rajasthan invited to UK conclave

Posted by & filed under Articles, In the Press, International.

A former manual scavenger from Rajasthan who transformed her life with the help of sanitation charity Sulabh International has been invited to speak at a UK conference this week.  Usha Chaumar will arrive in the UK to address the Annual Conference of the British Association of South Asian Studies (BASAS) at University of Portsmouth on the subject of 'Sanitation and… Read more »

जल जो ‘जहर’ था, अब है एक ‘जीवनदायी’ अनूठी पहल

Posted by & filed under Articles, In the Press, Photos, West Bengal.

उत्तर चौबीस परगना-कोलकाता। राजधानी कोलकाता और भारत बांग्‍लादेश सीमा से सटा और शहर के कांक्रीट जंगल से हटकर एक हराभरा सा गांव, नारियल,ताड़ के लंबे दरख्त, जगह-जगह पानी से भरे पोखर, ताल,तलैया. सब कुछ आंखों को भरमा सा देने वाला,अचानक गांव के बीचोंबीच बने एक पोखर के सामने आते हैं तीन लोग, तीनों प्रौढ़ से… Read more »