Posted by & filed under Delhi, Sulabh News, Videos.

प्रियंका राय की कहानी स्त्री शक्ति की सबसे अनूठी कहानी है क्योंकि उन्होंने उस विषय पर लड़ाई की, जिसे हम शायद कोई मसला समझते भी न हों. एक छोटा सा मसला, अपने घर में शौचालय होना.

हालांकि, ये आपको मज़ेदार लग सकता है पर इस छोटी सी बात का हमारे जीवन पर कितना गहरा प्रभाव पड़ता है, ये जानकर आप सकते में आ जाएंगे. आज भी गांवों में महिलाओं को शौच आदि के लिए बाहर ही जाना पड़ता है…बाहर जाने का ख़तरा कम नहीं है. इस दौरान उनके साथ दुराचार हो सकता है या कोई ज़हरीला जीव उन्हें काट सकता है…या फि़र ये इन्हीं तरह की अप्रत्याशित घटनाओं को आमंत्रण हो सकता है.

इतना ही नहीं, गांवों की ये महिलाएं दिन में शौच आदि जाने से परहेज़ करती हैं, जिससे उन्हें कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी बीमारियां भी हो जाती हैं. 
प्रियंका राय ने न केवल अपने इस मूल अधिकार के लिए लड़ाई की बल्कि आज वो इस विषय पर दूसरी महिलाओं की भी मदद कर रही हैं. उनका मानना है कि घर में शौचालय होना उनका मूल अधिकार है.

इस काम में उनके पति नारायण भी उनकी भरपूर मदद करते हैं और लोगों को शौचालय की उपयोगिता से अवगत कराते हैं. सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक डाॅक्टर बिंदेश्वरी पाठक भी इस एपिसोड में साथ आऐ. डाॅक्टर बिंदेश्वरी पाठक ने प्रियंका के साथ अपने गठजोड़ को बताया औऱ घर में टाॅयलेट न होने से पैदा होने वाली परेशानियों से भी अवगत कराया.