Posted by & filed under Articles, In the Press, India.

 

बदरीनाथ। श्री बदरीनाथ धाम में यात्रियों के लिए इस बार सुलभ इंटरनेशनल कंपनी की ओर से नए शौचालयों का निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए कंपनी ने कार्य भी शुरू कर दिया है।

बामणी गांव के अलावा देश के अंतिम गांव माणा में भी नए स्थाई शौचालयों का निर्माण किया जाना है। यात्रा रूट के अलावा धामों में भी शौचालयों की सुविधा की जिम्मेदारी प्रदेश सरकार ने सुलभ इंटरनेशनल कंपनी को दे रखी है। श्री बदरीनाथ धाम में हालांकि पर्याप्त मात्र में शौचालय पहले से हैं। लेकिन अधिकतर शौचालय पानी की कमी के कारण बंद पड़े हुए हैं।

 

बीआरओ की बढ़ी चुनौती-

ऋषिकेश-बदरीनाथ हाइवे को लेकर सीमा सड़क संगठन की मुसीबत कम होने का नाम नहीं ले रही है। पहले चमोली जिले में इस हाईवे पर लामबगड़ स्लाइड जोन ही सबसे बड़ा चुनौती था। लेकिन इस वर्ष कंचनगंगा हिमखंड और हाथीपहाड़ स्लाइड जोन ने बीआरओ की मुश्किलों को बढ़ा दिया है। इन दोनों स्थानों पर हाइवे को खोलने में बीआरओ ने दिन-रात एक कर दिए हैं। लेकिन उसे खोलने में सफलता नहीं मिल सकी है। प्रदेश सरकार के अलावा प्रशासन भी फिलहाल पूरा ध्यान इन दो स्थानों पर ही लगाए हुए है। श्री बदरीनाथ धाम की यात्र के लिए ऋषिकेश-बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग ही यातायात का एकमात्र साधन है। हर वर्ष यात्र काल के दौरान हाइवे जगह-जगह बीआरओ के लिए चुनौती से कम साबित नहीं हुआ है। चमोली जिले में सबसे खतरनाक लामबगड़ स्लाइड जोन हर वर्ष सीमा सड़क संगठन के लिए मुसीबत साबित हुआ है। लामबगड़ में आए दिन पहाड़ी गिरने, मलबा और पत्थरों के आने से यात्रियों को दिक्कतें होती रही हैं। लेकिन इस वर्ष लामबगड़ के अलावा कंचनगंगा हिमखंड तथा हाथीपहाड़ स्लाइड जोन ने सरकार, प्रशासन व बीआरओ की मुसीबतें बढ़ा दी हैं।

Source : – http://www.jagran.com/spiritual/religion-badrinath-and-mana-will-soon-modern-toilet-12331959.html