Posted by & filed under Articles, In the Press, India, Maharashtra, Photos, Press Releases, Sulabh News.

Jansatta - Hindi News

सुलभ इंटरनेशनल ने तीन लाख लोगों को एक साथ शौचालय मुहैया कराने की मुहिम की पहली किस्त तैयार कर ली है।

नई दिल्ली | July 11, 2016

सुलभ इंटरनेशनल ने तीन लाख लोगों को एक साथ शौचालय मुहैया कराने की मुहिम की पहली किस्त तैयार कर ली है। इनमें कई शौचालय खासतौर पर दिव्यांगों के लिए बनाए गए हैं जिससे अब उन्हें कोई परेशानी नहीं होगी। स्वच्छता और शौचालय अभियान की संस्था सुलभ इंटरनेशनल ने महाराष्टÑ के पंढरपुर में भगवान विट्ठल का मेला शुरू होने से पहले 1487 शौचालय बनाकर रेकार्ड बनाया है।

सुलभ शौचालय के संस्थापक डॉ बिंदेश्वर पाठक ने कहा कि देश में शौचालय क्रांति लाने और टॉयलेट कानून बनाने के लिए देश के पूर्व मुख्य न्यायाधीश एमएन वेंकटचलैया की अगुआई में करीब 100 बुद्धिजीवियों, कानूनविदों और वकीलों का समूह बैठक करने जा रहा है। इस बैठक में देश में शौचालय कानून बनाने की मांग की जाएगी और इस कानून का मसविदा तैयार किया जाएगा।

दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में पाठक ने बताया कि दुनिया में संभवत: यह दूसरी जगह है, जहां एक साथ इतने सारे शौचालय बनाए गए हैं। पंढरपुर प्रशासन और महाराष्टÑ सरकार की पहल पर यहां 2858 शौचालय बनाए जा रहे हैं, जिनमें 1487 की पहली किस्त जनता को सौंपी गई है। पाठक ने राज्य सरकारों से अपील की है कि वे ऐसे हर शहर में शौचालय बनाने के लिए आगे आएं जहां लोगों की भारी भीड़ जुटती है। पाठक के मुताबिक, तैयार होने के बाद इन शौचालयों का इस्तेमाल रोजाना करीब तीन लाख लोग कर सकेंगे।

इनमें कई शौचालय खासतौर पर दिव्यांगों के लिए बनाए गए हैं। पाठक ने बताया कि पंढरपुर मेले के दौरान शहर के आसपास गंदगी का साम्राज्य बन जाता है। मेले के दौरान सुलभ इंटरनेशनल खुद प्रचार करके जनता से इन शौचालयों के इस्तेमाल के अपील करेगा। पाठक ने पंढरपुर के विख्यात विट्ठल मंदिर के प्रशासन को बिना किसी फीस के शौचालयों की देखभाल और साफ-सफाई का प्रस्ताव भी दिया है। पाठक के मुताबिक, सुलभ इंटरनेशनल ने देशभर में करीब 8500 शौचालय बनाए हैं और उनका संचालन भी कर रहा है। इसके साथ ही उसने करीब 15 लाख परिवारों के लिए भी शौचालय बनाए हैं, जिनका रोजाना करीब डेढ़ करोड़ लोग इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके साथ ही सुलभ ने वृंदावन, वाराणसी और उत्तराखंड की करीब 2000 विधवाओं का पुनर्वास भी किया है और उनकी देखभाल कर रहा है।

Source : http://www.jansatta.com/news-update/maharashtras-pandharpur-gets-worlds-largest-toilet-facility/118305/